ganesha-kundli.png

PROFESSIONAL HOROSCOPE ANALYST

जन्म - पत्री

ब्रह्मा करोतु दीर्घायु ,विष्णु करोतु सम्पादमु ।शिव करोतु कल्याणँ यसयैष़ा जन्म पत्रिका ।।

ज्योतिष शास्त्र - एक परिचय

ज्योतिष शास्त्र एक बहुत ही वृहद ज्ञान है। इसे सीखना आसान नहीं है। ज्योतिष शास्त्र को सीखने से पहले इस शास्त्र को समझना आवश्यक है। सामान्य भाषा में कहें तो ज्योतिष माने वह विद्या या शास्त्र जिसके द्वारा आकाश स्थित ग्रहों, नक्षत्रों आदि की गति, परिमाप, दूरी इत्या‍दि का निश्चय किया जाता है।

ज्योतिष शास्त्र की व्युत्पत्ति 'ज्योतिषां सूर्यादि ग्रहाणां बोधकं शास्त्रम्‌' की गई है। हमें यह अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि ज्योतिष भाग्य या किस्मत बताने का कोई खेल-तमाशा नहीं है। यह विशुद्ध रूप से एक विज्ञान है। ज्योतिष शास्त्र वेद का अंग है। ज्योतिष शब्द की उत्पत्ति 'द्युत दीप्तों' धातु से हुई है। इसका अर्थ, अग्नि, प्रकाश व नक्षत्र होता है। शब्द कल्पद्रुम के अनुसार ज्योतिर्मय सूर्यादि ग्रहों की गति, ग्रहण इत्यादि को लेकर लिखे गए वेदांग शास्त्र का नाम ही ज्योतिष है।

छः प्रकार के वेदांगों में ज्योतिष मयूर की शिखा व नाग की मणि के समान सर्वोपरी महत्व को धारण करते हुए मूर्धन्य स्थान को प्राप्त होता है। सायणाचार्य ने ऋग्वेद भाष्य भूमिका में लिखा है कि ज्योतिष का मुख्य प्रयोजन अनुष्ठेय यज्ञ के उचित काल का संशोधन करना है। यदि ज्योतिष न हो तो मुहूर्त, तिथि, नक्षत्र, ऋतु, अयन आदि सब विषय उलट-पुलट हो जाएँ।

ज्योतिष शास्त्र के द्वारा मनुष्य आकाशीय-चमत्कारों से परिचित होता है। फलतः वह जनसाधारण को सूर्योदय, सूर्यास्त, चन्द्र-सूर्य ग्रहण, ग्रहों की स्थिति, ग्रहों की युति, ग्रह युद्ध, चन्द्र श्रृगान्नति, ऋतु परिवर्तन, अयन एवं मौसम के बारे में सही-सही व महत्वपूर्ण जानकारी दे सकता है। इसलिए ज्योतिष विद्या का बड़ा महत्व है।

महर्षि वशिष्ठ का कहना है कि प्रत्येक ब्राह्मण को निष्कारण पुण्यदायी इस रहस्यमय विद्या का भली-भाँति अध्ययन करना चाहिए क्योंकि इसके ज्ञान से धर्म-अर्थ-मोक्ष और अग्रगण्य यश की प्राप्ति होती है। एक अन्य ऋषि के अनुसार ज्योतिष के दुर्गम्य भाग्यचक्र को पहचान पाना बहुत कठिन है परन्तु जो जान लेते हैं, वे इस लोक से सुख-सम्पन्नता व प्रसिद्धि को प्राप्त करते हैं तथा मृत्यु के उपरान्त स्वर्ग-लोक को शोभित करते हैं।

 


ज्योतिष वास्तव में संभावनाओं का शास्त्र है। सारावली के अनुसार इस शास्त्र का सही ज्ञान मनुष्य के धन अर्जित करने में बड़ा सहायक होता है क्योंकि ज्योतिष जब शुभ समय बताता है तो किसी भी कार्य में हाथ डालने पर सफलता की प्राप्ति होती है इसके विपरीत स्थिति होने पर व्यक्ति उस कार्य में हाथ नहीं डालता।

astro2_edited.jpg

मनुष्य जीवन पर प्रभाव

मनुष्य का स्वभाव एवं कर्म इन्ही तत्वों पर निर्भर है। जन्म के समय जो ग्रह प्रभावी होता है उसी के अनुसार व्यक्ति का स्वभाव बनता है। ईथर का प्रभाव अधिक हो और लगन पर सीधा प्रभाव पडता हो तो जातक धर्मी होगा ज्ञानी होगा और हमेशा कार्य में लगा रहने वाला होगा। सूर्य मंगल राहु का प्रभाव लगन पर हो तो व्हक्ति दुबला होगा लम्बा होगा क्रोधी होगा और समय समय पर धन को नष्ट करने वाला होगा।वह सदाचार और कुलाचार से दूर होगा,यानी वह हमेशा तामसी चीजों की तरफ़ भागता रहेगा उसके कुल के अन्दर को मर्यादा होगी उससे वह दूर ही होगा। बुध के पृथ्वी तत्व के प्रभाव से जातक बच्चों जैसा व्यवहार करता है,उसे नये कपडे मकान और नये नये सामान की जरूरत रहती है,पानी के तत्व से पूरित चन्द्र और शुक्र का प्रभाव जब जातक पर पडता है तो वह अपने अनुसार भावनाओं को प्रदर्शित करने वाला कलाकार गायक या सामाजिक होता है। हवा तत्व का प्रभाव होने से जातक दुबला कल्पनाशील विद्वान और दानी स्वभाव का होगा जैसी जमाने की हवा होगी उसी के अनुसार अपने को चलाने वाला होगा लेकिन लापरवाह भी होगा।